Author Archives

This is Prashant V Shrivastava and I write lyrics and poetry. Visit https://flightofpoetry.in for my short poetry and find all my released songs here: http://www.pecificcreation.com/category/lyrics/. For some exclusive poetry recited by me, watch my YouTube channel at https://www.youtube.com/channel/UCTEPv0Zzm0J6efsAr39uu7A.

Let's connect over FB, Twitter, and Insta - my common handle is pecificcreation.

  • Tujh Dariya MeiN Utar Gaye

    देखे तुम्हारे जलवे
    अपनी हस्ती से मुकर गए
    हम समंदर थे मगर
    तुझ दरिया में उतर गए

  • Qaabil-e-Dushmani

    लोग ऐसे हैं के कोई हमनशीं नहीं होता
    आदमी की शक्ल में भी कोई आदमी नहीं होता
    लौटा दिया जो आए थे दरखास्त लेकर
    अब हर कोई तो काबिल-ए-दुश्मनी नहीं होता

  • चाँद की बातें

    कभी चाँद की बातें होतीं हैं
    कभी ज़िकर तुम्हारा होता है
    यूँ ही तनहाई के अंधेरों में
    गुज़र हमारा होता

  • Dhoop Ki RaunakeiN

    उठ चुकीं हैं देख लो, धूप की रौनक़ें पहले ही
    बची हुई रौशनी में, एक शाम कहो तो बना दूँ

  • Yeh ZulfoN Ki Badlee

    सुबहा की फ़िज़ा में नशा घोलती हो
    ये ज़ुल्फ़ों की बदली जो तुम खोलती हो

  • Buri Baat Hai

    सदाक़त में भी ज़िंदा हो, बड़ी बात है
    यहाँ तो अच्छा होना ही बुरी बात है

  • Woh AankheiN

    वो आँखें भुला दें कैसे कहो
    किसी भी ग़ज़ल में उतरती नहीं

    जो उठते हैं पलकों के परदे ज़रा
    निशाने से पहले ठहरतीं नहीं

  • Khwaab Dekha Keejiye

    फूलों से मिलिये
    चाँद से बातें कीजिए
    हक़ीक़त में सुंदर होते हैं
    ख़्वाब देखा कीजिए

  • Khoobsurati Ki Intehaa

    वो गहरी ज़ुल्फ़ों के छल्लों का उसके रुख़सार से खेलना
    जन्नत की ख़ूबसूरती की इंतहा, इस मंज़र का क़तरा भर है

  • Tere Andaaz

    मेरे अल्फ़ाज़ में
    तेरे अन्दाज़ गर
    शामिल ना होते

    मुझे ख़यालों के
    ये सब अहसास
    हासिल ना होते