Qaabil-e-Dushmani

लोग ऐसे हैं के कोई हमनशीं नहीं होता
आदमी की शक्ल में भी कोई आदमी नहीं होता
लौटा दिया जो आए थे दरखास्त लेकर
अब हर कोई तो काबिल-ए-दुश्मनी नहीं होता

Dhoop Ki RaunakeiN

उठ चुकीं हैं देख लो, धूप की रौनक़ें पहले ही
बची हुई रौशनी में, एक शाम कहो तो बना दूँ

Musafiri

Just Landed…

Tujh Dariya MeiN Utar Gaye

देखे तुम्हारे जलवे
अपनी हस्ती से मुकर गए
हम समंदर थे मगर
तुझ दरिया में उतर गए

Qaabil-e-Dushmani

लोग ऐसे हैं के कोई हमनशीं नहीं होता
आदमी की शक्ल में भी कोई आदमी नहीं होता
लौटा दिया जो आए थे दरखास्त लेकर
अब हर कोई तो काबिल-ए-दुश्मनी नहीं होता

चाँद की बातें

कभी चाँद की बातें होतीं हैं
कभी ज़िकर तुम्हारा होता है
यूँ ही तनहाई के अंधेरों में
गुज़र हमारा होता

Dhoop Ki RaunakeiN

उठ चुकीं हैं देख लो, धूप की रौनक़ें पहले ही
बची हुई रौशनी में, एक शाम कहो तो बना दूँ

Yeh ZulfoN Ki Badlee

सुबहा की फ़िज़ा में नशा घोलती हो
ये ज़ुल्फ़ों की बदली जो तुम खोलती हो

Buri Baat Hai

सदाक़त में भी ज़िंदा हो, बड़ी बात है
यहाँ तो अच्छा होना ही बुरी बात है

Woh AankheiN

वो आँखें भुला दें कैसे कहो
किसी भी ग़ज़ल में उतरती नहीं

जो उठते हैं पलकों के परदे ज़रा
निशाने से पहले ठहरतीं नहीं

Khwaab Dekha Keejiye

फूलों से मिलिये
चाँद से बातें कीजिए
हक़ीक़त में सुंदर होते हैं
ख़्वाब देखा कीजिए

Khoobsurati Ki Intehaa

वो गहरी ज़ुल्फ़ों के छल्लों का उसके रुख़सार से खेलना
जन्नत की ख़ूबसूरती की इंतहा, इस मंज़र का क़तरा भर है

Tere Andaaz

मेरे अल्फ़ाज़ में
तेरे अन्दाज़ गर
शामिल ना होते

मुझे ख़यालों के
ये सब अहसास
हासिल ना होते

Ye Haqiqat

मेरी हक़ीक़त में तू भले ही फ़क़त एक ख़्वाब है
मगर यक़ीन जान, मै ये वक़्त बदलना ही नहीं चाहता

LaboN se ChingaariyaaN

सुनते थे गुल-ओ-गुलफ़ाम हैं
और मय छलकी रहती है
उन सुर्ख़ लबों से पर सच में
चिंगरियाँ उड़ती रहतीं हैं

Tum Faqat Koi Pari NahiN Ho

तुम हो हसीं तो हम हैं दीवाने
ये किसका क़ुसूर है
तुम फ़क़त कोई परी नहीं हो
कुछ ख़ास तो ज़रूर है

Tanhaai

मैने ख़ुद ही चुनी थी
सो मैने ये पाई है
हूँ मै रास्तों पे जिनकी
मंज़िल ही तनहाई है

Dil

कहाँ मै दिल की,,,सुनता ना था
कहाँ मै दिल की,,,राहों पे हूँ

%d bloggers like this: