devi nangrani

दीवारो-दर थे, छत थी वो अच्छा मकान था

कोई नहीं था ‘देवी’ गर्दिश में मेरे साथ
बस मैं, मिरा मुक़द्दर और आसमान था.