Taaza Gazal

मै काफ़ी जज़्बे निचोड़ लाया हूँ
सूखे सब सपने, तोड़ लाया हूँ
आँखों से भिगोकर, पलकों पे सुखाता हूँ
ज़रा रुकिए, अभी ताज़ा ग़ज़ल सुनाता हूँ



Categories: Love Shayeri

Tags: , , , , ,

%d bloggers like this: