bismil

इन्हे फिर से हरा कर दो

कुछ पत्ते उगे थे ताबिर में तुम्हारे

हरफ़-दर-हरफ़ ये मुंतज़ीर थे तुम्हारे