मेरे इश्क़ के ईमां के तहत

तुम मेरे ही हो जाते तो अच्छा था, मगर मर्ज़ी तुम्हारी

मेरे इश्क़ के ईमां के तहत, तुम्हारी ख़ुशी ही तय हुई थी



Categories: featured, Love Shayeri

%d bloggers like this: