गिला भी न कर सकोगे

ये जो बात-बात मुझसे मुहब्बत
साबित करवाते हो ना
जिस दिन मै बेवफ़ा हो गया
गिला भी न कर सकोगे

पिघले-पिघले से लहजे में
जो तुमसे मुखातिब होता हूँ
तुम जो कुछ भी फरमाते हो
मै तुम्हारी जानिब होता हूँ
गर मै भी मनचला हो गया
गिला भी न कर सकोगे

वही इश्क़ आसमां छूता है
जिसे हासिल कोई ज़मीन हो
वही लोग इश्क़ कर पाते हैं
जिनमें चौतरफ़ा यक़ीन हो
गर हमसे हौसला खो गया
गिला भी न कर सकोगे

prashant V Shrivastava



Categories: Love Shayeri

Tags: , ,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: