Author Archives

This is Prashant V Shrivastava and I write lyrics and poetry. Visit https://flightofpoetry.in for my short poetry and find all my released songs here: http://www.pecificcreation.com/category/lyrics/. For some exclusive poetry recited by me, watch my YouTube channel at https://www.youtube.com/channel/UCTEPv0Zzm0J6efsAr39uu7A.

Let's connect over FB, Twitter, and Insta - my common handle is pecificcreation.

  • Wo AankhoN meiN Rahta bhi nahiN

    वो आँखों में रहता भी नहीं
    वो आँखों से बहता भी नहीं
    वो ख़फ़ा है आँखों की नमी पर
    वो आँखों को सहता भी नहीं

  • Ek Tarfa Muhabbat

    एक तरफ़ा मुहब्बत थी
    फ़ैसला बाहमी क्या होता
    जिसमें खारे अश्क़ मिलाये
    वो दरिया चाशनी क्या होता

  • Dil to toot_ta hi rahta hai

    तुम ख़्वाबों को तवज्जो दिया करो मुसाफ़िर
    दिल तो टूटता ही रहता है

  • Zindagi, teri marzi

    जो ये नहीं तो ये ही सही
    ज़िन्दगी तेरी मर्ज़ी ही सही

  • Meri AankhoN se

    मेरी आँखों से पढ़ लिया करो
    मेरे जज़्बात की हिकायतें
    अल्फ़ाज़ कितने भी उलझे हों
    लोग समझ ही जाया करते हैं

  • Iltijaa

    कहाँ तक इल्तिजा की जाए
    ये आरज़ू अब भुला दी जाए

    हो गई आदत अंधेरों की
    क्यों ना शम्मा बुझा दी जाए

    Prashant V Shrivastava (Musafir)

  • Dil se Pahre…

    Dekh Zara - a neo gazal by Padma Shri Hariharn

    Dil se pahre hataa ke dekh zaraa
    Unko dhadkan sunaa ke dekh zaraa

  • Tribute to Bharat Ratn Lata Mangeshkar

    घुल चुकी है
    तुम्हारी आवाज़ की ख़ुशबू
    इन हवाओं में
    अब हम हर साँस में
    तुम्हें सुन सकते हैं

  • Rukhsaar pe

    रूख़्सार पे जो भँवर का नज़ारा हुआ है
    फ़स्ल-ए-गुल बहाल हो, इशारा हुआ है
    अभी रोके रखना बहारों को आसमान पे
    अभी एक नाज़नीं को ज़मीं पे उतारा हुआ है

  • Yaa Kinara KareiN

    तुम्हें किस तरहा से पुकारा करें
    कोई नाम लें या इशारा करें
    तुम्हारी आँखों से जो रिश्ते हो चले हैं
    डूब के जाँ बचाएँ, या किनारा करें